Monday, April 7, 2014

हर सेक्युलर हिन्दू से सवाल

मेरा हर सेक्युलर हिन्दू से सवाल – 

जो अपने आप को मानवतावादी समझता हे – वासुदेव कुटम्बकाम्ब की बात करता हे - वह वास्तविकता समझे फिर वोट करे ........
१ क्या कोई मुस्लिम सेक्युलर हे ? (गलती से कोई बन जाता हे तो उसकी हालत तसलीमा नसरीन जेसी होती हे)
२ क्या पुरे विश्व में कोई मुस्लिम बहुमत वाला देश सेक्युलर हे ?
३ अगर मुस्लिम सेक्युलर हे तो 1947 में देश का विभाजन क्यों किया गया ?
४ अगर मुस्लिम बहुल स्टेट सेक्युलर हे तो कश्मीरी पंडित इसी देश में शरणार्थी क्यों हे ?
५ अगर आर्थिक हालत के करान – अत्याचार के कारण मुस्लिम दंगे – बम विस्फोट करते हे तो फिर गरीब हिन्दू वह कश्मीरी पंडित क्यों नहीं आतंकवादी बने ?
६ क्या पाकिस्थान – बंगलदेश – अफगानिस्थान – मिश्र- सीरिया – रूस में आरएसएस या मोदी हे जो वहा मुस्लिम दंगे और बम विस्फोट करते हे ?
अगर इन सब का जबाब “ ना “ में हे तो में हर हिन्दू जो “ वासुदेव कुटम्ब “ “ मानव धर्मं “ में विस्वाश करता हे उससे निवेदन हे की इस बार वह जात – पात – के आधार पर वोट न करे ! 

मुस्लिम जेसी कम्युनल लोगो को देश बेच देने वाले नकली कांग्रेस – उससे जुड़े संघठान – जनवादी – वामपंथी- नाम से नकली हिन्दू के बहकावे में न आकर इस बार वोट असली हिन्दू – मोदी जी को करे – कमल के निशान को करे – क्योकि असली हिन्दू पुरे विश्व को अपना घर मानता हे – इसलिए सही सेक्युलर मोदी जी को ही वोट करे ! 

सभी असली सेक्युलर एक हो जाए और कमल के निशान को अपना वोट दे !
ध्यान रखे – 1909 में वामपंथी के कहने से अंग्रेज ने देश में पहली बार धर्म के आधार पर आरझण दिया था – जिसका परिणाम 1922 में पहला हिन्दू मुस्लिम दंगा था – तब आरएसएस थी नहीं – 

इसलिए मित्रो इन नकली हिन्दुओ नकली सेकुलरो को जो कांग्रेस या UPA या तीसरा मोर्चा में हे इनको कोई भी हिन्दू वोट न करे –
जय हिन्द
वंदेमातरम्
मेरा वोट देश के लिए – इसीलिए मेरा वोट मोदी जी के लिए !!!!





सेकुलर का तात्पर्य क्या है ?
--------------

जालीदार टोपी पहन कर इफ्तारी खाते हुए फोटो खिंचाना सेकुलरिस्म है

अपनी संस्कृति का सम्मान ना करना सेकुलरिस्म है

वोट बैंक के लालच में अवैध बांग्लादेशियों को भारतीय नागरिकता और मताधिकार देना सेकुलरिस्म है

पडोसी देशों में हिन्दुओं पर हो रहे अत्याचार पर चुप्पी साध लेना सेकुलरिस्म है

आतंकवादियों को वोट बैंक के कारण सजा ना देना सेकुलरिस्म है

दुश्मनों द्वारा अपने देश की सीमाओं के उलंघन पर नपुंसकों की तरह बैठे रहना सेकुलरिस्म है

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...