Saturday, September 21, 2013

प्रमोद कृष्णन

एक कांग्रेस का छात्रनेता था, वह एनएसयुआई का सक्रिय कार्यकर्ता और पदाधिकारी रहा, उसने बहुत कोशिस की कि उसे कांग्रेस का टिकट मिल जाय किसी बङे चुनाव मे, पर असफल रहा !
उसने फिर दिमाग लगाया, अपने बाल और दाढी को बढा लिया, नाम के आगे आचार्य जोङ लिया और बाबा बन गया. सारे बाबा धार्मिक होते हैं ,ये दुनिया का प्रथम धर्मनिरपेक्ष बाबा है.
यह धर्म की चर्चा के लिये हर चैनल पर आकर लोगो को अपने घटिया उपदेशों को सुनाता है और कांग्रेसी एजेंडे को बढाता है.
इसका नाम आचार्य प्रमोद कृष्णन हैं, लोग इसे कांग्रेसी के बजाय बाबा ही समझते हैं !


No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...