Thursday, July 18, 2013

मोदी ने अपने भाषणों में जो अहम सवाल उठाये

मोदी ने अपने भाषणों में जो अहम सवाल उठाये वो यह है....

* शिक्षा क्‍यों बन गई है मनी मेकिंग मशीन?

* आजादी के वक्‍त डॉलर और रुपये की कीमत बराबर थी। फिर आज डॉलर के सामने रुपये की कीमत 60 रुपये से ज्‍यादा क्‍यों?

* मालदीव और बांग्‍लादेश जैसे देशों की करंसी स्थिर है फिर भारत के अर्थशास्‍त्री पीएम रुपये को कमजोर होता क्‍यों देख रहे हैं?

* कांग्रेस के नेतृत्‍व वाली यूपीए सरकार ने 100 दिन में महंगाई कम करने का वादा किया था, उस वादे का क्‍या हुआ?

* कांग्रेस ने दशकों पहले गरीबी हटाओ का नारा दिया था तो फिर आज गरीबी क्‍यों नहीं हटी?

* 10 साल पहले भारत की दो यूनिवर्सिटी दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज में थीं, लेकिन आज सिर्फ एक क्‍यों?

* 10 साल पहले चीन की एक भी यूनिवर्सिटी दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटीज में नहीं थीं पर आज 32 हैं, ऐसा क्‍यों?

* महंगाई, बेरोजगारी की बात आते ही कांग्रेस सेक्‍युलरिज्‍म का बुर्का क्‍यों पहन लेती है?

* रेलवे स्‍टेशनों पर सड़ रहा अनाज शराब बनाने वालों को क्‍यों बेचा गया, जबकि सुप्रीम कोर्ट ने उस अनाज को गरीबों में बांटने का आदेश दिया था?

* रेलमंत्री पवन बंसल के खिलाफ सबूत होने के बाद भी सीबीआई ने उन्‍हें गवाह क्‍यों बनाया?

* कोलगेट में सीबीआई रिपोर्ट बदलवाने के पीछे कौन था, पीएमओ इस बारे में देश को सच क्‍यों नहीं बताते?

* भारतीय सैनिकों को सिर काट ले जाने के कुछ दिनों बाद ही पाकिस्‍तानी अधिकारियों को चिकन क्‍यों खिलाया गया?

* भारतीय मछुआरों की हत्‍या के बाद इटली के नौसैनिक क्‍यों वापस भेजे गये?

* महंगाई, बेरोजगारी जैसे सवालों पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सोनिया गांध देश को जवाब क्‍यों नहीं देते हैं?

* सरदार सरोवर बांध की फाइल पर क्‍यों बैठे हैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, क्‍यों फाइलें आगे नहीं बढ़ती हैं?

* बिजली बनाने के लिये कोयले की जरूरत है तो क्‍यों उसे पूरा नहीं किया जा रहा है?

* यूपीए शासनकाल में हर फाइल को बढ़ाने में इतना समय क्‍यों लग रहा है?

* पाकिस्‍तान के साथ आंख में आंख डालकर बात क्‍यों नहीं करती है सरकार?

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...