Tuesday, July 9, 2013

RAW अधिकारी ने कुछ ऐसे खुलासे किये

इंडिया न्युज पर एक बहस के दौरान भारत सरकार के पूर्व RAW अधिकारी आर एस एन सिहँ ने कुछ ऐसे खुलासे किये जो शायद आप को हिला कर रख देंगे।

1) उनका कहना है की आई बी को किसी भी तरह की आतंकी घटना के बारे पूर्व सुचना सरकार को नहीं देनी चाहिए। क्योकि आज कांग्रेस सरकार पाकिस्तान और आतंकवादियों से ब्लैक मेल होकर सभी सुरक्छा अगेंसियो को आपस में लड़ा कर कमजोर कर रही है।

2) उन्होंने बताया की बोधगया में हुए आतंकी हमलो पर उन्हें कोई आश्चर्य नहीं हुआ है। उन्होंने पूछा की नितीश कुमार पाकिस्तान क्यों गय थे? क्या वो वहा पर वोट बैंक के कारन गए थे? अभी २६/११ के खून के छीटे भी नहीं धुले है और यह नितीश पाकिस्तान का दौरा कर रहे है?

3) उन्होंने बताया की पूरा उत्तर बिहार इंडियन मुजाहिद्दीन और लस्कर ए तोएबा का गढ़ बन गया है और जब से नितीश कुमार पाकिस्तान गए है तबसे यह और भी ज्यादा बढ़ गया है।

4) भारत का दुश्मन नं: 1 हाफिज सैईद काग्रेस को ब्लैकमेल कर रहा है। क्योकि काग्रेसियोँ द्वारा गरीब जनता के लुटे गए पैसे को हवाला के जरिए विदेशोँ मे पहुचाने मे हाफिज सैईद इनकी मदद करता है। जिसकी ऐवज मे वो भारत मे अपना आँतकी नेटवर्क बे रैकट चला रहा है। आज के बोद्धगया धमाके इसका ताजा सबुत हैँ जिसमे आई बी के अलर्ट के बावजूद भी नितीश सरकार द्वारा कोई कार्यवाही नहीँ हुई । इस बात की पुष्टि हाफिज सैईद से जुडे किसी भी मामले मे कांग्रेस सरकार का रुख को देख कर हो जाता है ।

5) उन्होंने बताया की CPI(M) और मावोवादियो में कोई फर्क नहीं है। मैंने इन लोगो को दिन में झंडा और रात में बन्दुक उठाते हुए देखा है। CPIM संसदीय रास्ता है, CPIML उप संसदीय रास्ता है और जो माओवादी है वो गन रहा रास्ता है। बिहार में ही जिहादी और लाल आतंकवाद का मिलाप हुआ है।

6) केन्द्र सरकार द्वारा इशरत जहान एन्काउंटर मामले मे आई बी की भुमिका पर सदेँह करने को श्री सिहं ने बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण बताया साथ ही इसको देश की आंतरिक सुरक्षा पर खतरा बताते हुए खुफिया अधिकारियोँ का मनोबल तोडने वाला कदम भी बताया।

http://www.youtube.com/watch?v=vKyLHMS6nTU

1 comment:

  1. इस देश में बहुत से विदेशी जासूस एजेंट काम कर रहे हैं जो हर बड़े सरकारी विभाग में मौजूद हैं

    ReplyDelete

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...