Tuesday, April 2, 2013

मेरा मित्र “ जावेद क्या सोचेगा

यदि तुम आज हिंदुत्व का समर्थन करने में डरते हो “ की लोग मुझे कट्टर हिन्दू समझेंगे” या मेरा मित्र “ जावेद क्या सोचेगा ??”

तो पहले सोंचो जावेद औरंगजेब के बारे में क्या सोचता है ??

जावेद पाकिस्तान की जीत पर खुश क्यों होता है ??

जावेद राम मंदिर निर्माण का विरोध क्यों करता है ??

जावेद मोदी के नाम पर छाती क्यों कूटता है ?

जावेद हिंदू लड़की को ही अपने गर्ल फ्रेंड क्यों बनाता है ??

जावेद अपने धर्म के प्रति कट्टर क्यों है ?

क्या तुम्हे नही लगता की जावेद झूठी दोस्ती के बहाने तुम्हे कायर और घटिया बना रहा है ??? ऐसे के लिए झूठा सेकुलर मत बनो????

हिँदू बनो और दहाड़ो की तुम हिन्दू हो

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...