Thursday, January 9, 2014

काश भगवा आतँकवाद होता

"काश भगवा आतँकवाद होता"

ना केरल मे हिन्दू कटे होते
ना गोधरा मे हिन्दू जले होते
ना कश्मीर मे हिन्दू बर्बाद होता
काश भगवा आतँकवाद होता....!!

ना आसाम मेँ बहनो का बलात्कार होता
ना बंगाल मे हिन्दूओ का नरसंहार होता
ना भारत मे इस्लामिक जेहाद होता
काश भगवा आतँकवाद होता....!!

ना तेजोमहल ताजमहल बनता
ना वेधशाला कुतुबमिनार बनता
ना राम मंदिर पर कोई विवाद होता
काश भगवा आतँकवाद होता....!!

ना भय मे महाकुँभ होता
ना आतँक मे चार धाम होता
ना डर कर अमरनाथ होता
काश भगवा आतँकवाद होता"...!!

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...