Tuesday, June 11, 2013

आस्ट्रेलिया की प्रधानमन्त्री ने जो कहा

आस्ट्रेलिया की प्रधानमन्त्री ने जो कहा है, उस बात को कहने के लिए बड़ा साहस और आत्मविश्वास चाहिए! पूरी दुनिया के सब देशो मे ऐसे ही लीडर होने चाहिए! वो कहती है : "मुस्लिम, जो इस्लामिक शरिया क़ानून चाहते है उन्हे बुधवार तक ऑस्ट्रेलिया से बाहर जाने के लिए कहा हे क्यूकी ऑस्ट्रेलिया देश के कट्टर मुसलमानो को आतंकवादी समझता है.

ऑस्ट्रेलिया के हर एक मस्जिद की जाँच होगी और मुस्लिम इस जाँच मे हमे सहयोग दे जो बाहर से उनके देश मे आए है उन्हे ऑस्ट्रेलिया मे रहने के लिए अपने आप को बदलना होगा और ना की ऑस्ट्रेलियन लोगो को... अगर नही होता है तो मुसलमान मुल्क छोड़ सकते है कुछ ऑस्ट्रेलियन चिंतित है ये सोच के की क्या हम किसी धर्म के अपमान तो नही कर रहे.. पर मई ऑस्ट्रेलियन लोगो को विश्वास देती हू की हम जो भी कर रहे है वो सिर्फ़ ऑस्ट्रेलिया के लोगो के हित मे कर रहे है हम यहा इंग्लीश बोलते है ना की अरब इसलिए अगर इस देश मे रहना होगा तो आपको इंग्लीश सीखनी ही होगी ऑस्ट्रेलिया मे हम JESUS को भगवान मानते है, हम भगवान को मानते है! हम सिर्फ़ हमारे CHRISTIAN RELIGION को मानते है और किसी धर्म को नाही इसका यह मतलब नही की हम संप्रदायिक है ! इसलिए हुमारे यहा भगवान की तस्वीर और धर्म ग्रंथ सब जगह होते है!

अगर आपको इस बात से आपत्ति है तो दुनिया मे आप कही भी जा सकता है ऑस्ट्रेलिया छोड़ के ऑस्ट्रेलिया हमारा मुल्क है, हमारी धरती है, और हमारी सभ्यता है हम आपके धर्म को मानते नही पर आपकी भावना को मानते है! इसलिए अगर आपको नमाज़ पढ़नी है तो ध्वनि प्रदूषण नाकरे हमारे ऑफीस, स्कूल या सार्वजनिक जगहो मे नमाज़ बिल्कुल ना पढ़े! अपने घरो मे या मस्जिद मे शांति से नमाज़ पढ़े जिस से हमे कोई तकलीफ़ ना हो! अगर आपको हमारे ध्वज से, राष्ट्रा गीत से हमारे धर्म से या फिर हमारे रहण सहन से कोई भी शिकायत है तो आप अभी इसी वक़्त ऑस्ट्रेलिया छोड़ दे"
आस्ट्रेलिया की प्रधानमन्त्री जूलीया गिलर्ड सीखो भारत के नेताओ इनसे कुछ

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...