Monday, June 3, 2013

आडवानी बाबा

कहा जाता है कि बुढापे मे आदमी सठिया जाता है और ज्यादा लालची भी हो जाता है .... ...

ये सच ही है, अब देखिये ना अपने आडवानी बाबा को एक मौका मिला जनता ने उनको खारीज भी कर दिया लेकिन वो है कि लगे ही हुये है ........... 

आडवानी बाबा को एक सलाह:- आप बहुत ही बुजुर्ग व सम्मनित नेता है, आपने भाजपा को इतनी बुलन्दी पे पहुचाया है, इन सबके लिये आप बढाई के पात्र है, लेकिन भगवान ने इस जन्म मे आपको प्रधानमंत्री का पद नही लिखा है ........

आपकी,भाजपा की व देश की फिलवक्त मांग मोदी है, इसलिये कृपया रास्ता खाली करे व जो सम्मान आपको मिल रहा है उससे अपने आप को वंचित ना करे, एक साल बचा हुआ है चुनाव मे कही ऐसा ना हो कि आपकि जिद के कारण भाजपा को आगामी चुनाव मे जनता(युवाओ) के क्रोध का समना पडे व आप जिस पर्टी को इतने उपर ले गये है उसे फिर से वापिस वही पे ला के जनता पटक दे, .......... क्या आप चाहेंगे कि भाजपा फिर से वही पहुच जाये जहा से आप उसे इस उचाई पे लाये है ???
.

.

.

.

.

मित्रो इसे इतना शेयर किजिये कि हमारी आवाज आडवानी जी तक पहुच सके ...


जय मोदी राज की !!

हर हर महादेव !!

***राजीव राय***

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...