Saturday, June 29, 2013

मनमोहन सिंह

*** मनमोहन सिंह ***

आजकल अधिकतर लोग श्री मनमोहन सिंह जी की बुराई करते फिरते हैं , लेकिन वो आदरणीय श्री मनमोहन सिंह जी की उप्लाब्धियों से अनजान हैं | आइये जानते हैं उनके बारे में ..............

# जब मनमोहन सिंह पैदा हुए तो वो रोये ही नहीं , लाख कोशिसो के बावजूद डॉक्टर नाकाम रहे , नर्सो व डॉक्टरोने कई बार चिमटी काटी व थप्पड़ लगाए पर कोई फायदा नहीं .. इससे पता चलता हैं की वो बचपन से ही सहनशील थे |

# स्कुल में जहाँ बच्चो को कक्षा में बात करने व शोरगुल करने पर सजा मिलती थी वही अपने मन्नू बाबू को किसी भी टीचर ने आज तक कक्षा में बात करते हुए नहीं पकड़ा सका यानी वो काफी चालाक थे , किसी के हाथ ना आने वाले |

# VIVA में वो कभी जवाब नहीं देते थे क्यूंकि वो बोलने में नहीं लिखने में यकीन रखते थे |

# फिल्म " ख़ामोशी " का निर्माण मनमोहन सिंह जी को ध्यान में रखते हुए किया गया |

# शादी की पहली रात में इनकी बीवी ने कहा " चुप चुप खड़े हो जरुर कोई बात हैं " तो मनमोहन जी शरमा गए |

# कई देशो ने तो मनमोहन सिंह की उस तस्वीर लाने वाले को इनाम देने की पहल की हैं जिसमे मनमोहन सिंह जी का मूह खुला हुआ हो पर वो नाकाम रहे |

# कठपुतलियों का खेल जो गुमनाम सा हो गया था उसे फिर से जीवित करने का श्रेय मनमोहन जी को जाता हैं |

# स्त्रियों का आदर करना क्या होता हैं ये मनमोहन सिंह जी ने सिखलाया |

# मनमोहन सिंह कई पुरुषो को बेहतर जोरू का गुलाम कैसे बने इस बात की ट्रेनिंग भी दे चुके हैं |

# आज हमारे पास जापान से बेहतर रोबोट हैं और हम जापान से इस मामले में अगर आगे तो सिर्फ मनमोहन जी के कारण |

# मनमोहन सिंह काफी अनुशाशन प्रिय इंसान हैं , वो उतना ही बोलते हैं जितना कहा जाए |

# नारी शक्ति का प्रभाव हमें दिखलाने के लिए श्री मनमोहन सिंह जी ने अपना राजनैतिक जीवन दांव पर लगा दिया |

# विश्व के सभी पीएम की तुलना में मनमोहन जी का टेलीफोन बिल सबसे कम आता हैं |
# मनमोहन जी हमेशा शान्ति व्यवस्था कायम रखने के पक्षधर रहे हैं चाहे इसके लिए कितने ही सैनिको की कुर्बानी ही क्यों ना देनी पड़ जाए |

# मनमोहन जी ने अपना अर्थव्यवस्था सम्बंधित बेशकीमती ज्ञान का आज तक इसलिए प्रयोग नहीं किया क्यूंकि उन्होंने वो आने वाली पीढ़ी के लिए संभाल के रखा हैं |

So Plz Don't Crack jokes Upon Sri Manmohan Singh Ji..

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...