Sunday, June 16, 2013

नितीश कुमार ने ही ठाकरे बंधुओं को सही ठहरा दिया

मुल्ला नितीश ने राज और उद्धव ठाकरे की भाषा बोली :

मुंबई और पूरे महाराष्ट्र में रहने वाले मेरे बिहारी साथियों,
आप मेरी बात का मतलब अन्यथा ना लेना और ना ही बुरा
मानना।
राज और उद्धव ठाकरे जब बिहारियों के मुंबई में रहने पर
ऐतराज़ करते हैं तो नितीश और लालू यादव कहते हैं कि
बिहार का रहने वाला व्यक्ति भी देश का नागरिक है और देश
में कहीं भी रह सकता है। सही बात है, मगर आज नितीश
कुमार ने ही ठाकरे बंधुओं को सही ठहरा दिया।
नितीश ने क्या कहा जरा सुनिए, "एक बाहर के नेता की वजह
से हमारा गठबंधन टूट गया, कोई बाहर का नेता बिहार में
कैसे बोल सकता है"
ये शब्द नितीश कुमार ने नरेन्द्र मोदी के लिए कहे। अब आप ही
सोचिये कि नरेंन्द्र मोदी को अगर बाहर वाला बताएगा नितीश
कुमार तो ठाकरे बंधू भी तो बिहार के लोगों को मुंबई के लिए
बाहर का कह सकते हैं।
नरेन्द्र मोदी देश के नागरिक हैं और उन्हें देश में कहीं जाने की
मनाही नहीं हो सकती। वो "बिहार" के लिए बाहर वाले कैसे हो
गए? वो देश के सबसे लोकप्रिय नेता हैं, ऐसा सब मानते हैं। तो
फिर आज क्यूँ मुल्ला नितीश ने ठाकरे बंधुओं की भाषा बोली
नरेद्र मोदी के लिए? क्या नितीश अब यह चाहते हैं कि बिहार
में प्रचार के लिए केवल बिहार के ही लोग जायेंगे।
मुंबई में रह कर आप बिहार के रहने वाले नितीश कुमार को
उपयुक्त जवाब दीजिये क्यूंकि यकीनन उनका बयान लोकतान्त्रिक
मर्यादाओं के खिलाफ है।

No comments:

Post a Comment

शंकराचार्य और सरसंघचालक एक_तुलनात्मक_अध्ययन

वरिष्ठ आईपीएस चाचाजी  श्री Suvrat Tripathi की कलम से। #शंकराचार्य_और_सरसंघचालक_एक_तुलनात्मक_अध्ययन सनातन धर्म की वर्णाश्रम व्यवस्था के ...